Tuesday, February 7, 2023
Home श्रेष्ठ ऐतिहासिक उपन्यास भगवान कल्याणराय के आंसू और महाराजा रूपसिंह राठौड़

भगवान कल्याणराय के आंसू और महाराजा रूपसिंह राठौड़

इस ऐतिहासिक उपन्यास में शाहजहां के सबसे विश्स्त राजपूत राजा किशनगढ़ नरेश महाराजा रूपसिंह राठौड़ की जीवन गाथा को आधार बनाया गया है जिसने शामूगढ़ की लड़ाई में औरंगजेब के हाथी की अम्बारी की रस्सियां काटते हुए अपने प्राण न्यौछावर किए थे। यह उपन्यास आज से कुछ वर्ष पहले भगवान कल्याण राय के आंसू और महाराजा रूपसिंह राठौड़ के नाम से प्रकाशित हुआ था।

Latest articles

न कांग्रेस के ही बन सके और न कम्युनिस्ट रह सके जानकी प्रसाद बगरहट्टा...

0
जानकी प्रसाद बगरहट्टा का परिवार मूलतः पंजाब के रेवाड़ी शहर से उठकर बीकानेर रियासत में आया था और वह डेढ़ सौ साल से बीकानेर...

जालोर का राजनीतिक एवं सांस्कृतिक इतिहास

0
जालोर का राजनीतिक एवं सांस्कृतिक इतिहास, लेखक डॉ. मोहनलाल गुप्ताद्वितीय संस्करण, 2022 प्रकाशित जालोर जिले में तीन प्रमुख नगर हैं- जालोर, भीनमाल एवं सांचोर। इन...

क्या भारत के लोगों का डीएनए एक है?

0
पिछले कुछ समय से देश के समक्ष यह अवधारणा प्रस्तुत की जा रही है कि विगत चालीस हजार साल से भारत के लोगों का...

बेबी को बाबुल नहीं बुरका पसंद है!

0
भारत की जनसंख्या वर्ष 2001 से 2011 के बीच में 1.7 प्रतिशत प्रतिवर्ष की दर से बढ़ी थी जबकि ई.2011 से 2022 के बीच...

प्रांतों की स्वाभाविक संस्कृति को कुचल रही हैं राजनीतिक पार्टियाँ!

0
लालची नेताओं के लिए वोट चरने का मैदान बन गए हैं प्रांत! भारत हजारों साल पुराना देश है जिसका स्वरूप समय-समय पर बदलता रहा है।...
// disable viewing page source