Monday, January 24, 2022
Home श्रेष्ठ ऐतिहासिक उपन्यास भगवान कल्याणराय के आंसू और महाराजा रूपसिंह राठौड़

भगवान कल्याणराय के आंसू और महाराजा रूपसिंह राठौड़

इस ऐतिहासिक उपन्यास में शाहजहां के सबसे विश्स्त राजपूत राजा किशनगढ़ नरेश महाराजा रूपसिंह राठौड़ की जीवन गाथा को आधार बनाया गया है जिसने शामूगढ़ की लड़ाई में औरंगजेब के हाथी की अम्बारी की रस्सियां काटते हुए अपने प्राण न्यौछावर किए थे। यह उपन्यास आज से कुछ वर्ष पहले भगवान कल्याण राय के आंसू और महाराजा रूपसिंह राठौड़ के नाम से प्रकाशित हुआ था।

Latest articles

स्वतंत्रता संगा्रम से पहले भारत में साम्प्रदायिक हिंसा – 1921 1931

0
बीसवीं सदी के भारत में साम्प्रदायिक हिंसा के युग की शुरुआत मालाबार के मुस्लिम मोपलाओं ने की। अठारहवीं सदी में मोपलाओं ने टीपू सुल्तान...

देश में उग्र-हिन्दुत्व की लहर

0
विजयी  विश्व तिरंगा प्यारा जब भारत साम्प्रदायिक हिंसा की आग में जलने लगा तो भारतवासियों को उनके गौरव का स्मरण कराने के लिए ई.1924 में...

जिन्ना को प्रेमपत्र लिखा करती थीं सरोनी नायडू!

0
भारतीय राजनीति में जिन्ना का उदय देश को पाकिस्तान की ओर ले जाने वाले प्रमुख तत्त्वों में से एक था। मुहम्मद अली जिन्ना का...

गांधी और नेहरू को सार्वजनिक मंचों से अपमानित करता था जिन्ना!

0
अंग्रेजी रंग में रंगा था पाकिस्तान का भावी जनक ई.1934 से ई.1947 तक की संक्षिप्त अवधि में भारतीय राजनीति के आकाश पर जिन्ना और गांधीजी...

विभाजित भारत का पहला नक्शा मुहम्मद इकबाल ने बनाया

0
मोहम्मद इक़बाल को अल्लामा इकबाल भी कहा जाता है। उसका जन्म 9 नवम्बर 1877 को पंजाब के सियालकोट जिले में (अब पाकिस्तान) में हुआ...
// disable viewing page source