Wednesday, February 28, 2024
spot_img

Ooops... Error 404

Sorry, but the page you are looking for doesn't exist.

श्रीराम जन्मभूमि मंदिर किसने तोड़ा?

हिन्दू मानते हैं कि अयोध्या स्थित श्रीराम जन्मभूमि मंदिर ई.1528 में बाबर के सेनापति मीर बाकी ने तोड़ा था। इस कथन में कितनी सच्चाई...

सती सावित्री सीता क्या कमजोर नारियाँ हैं?

सती, सावित्री, सीता एवं अनुसुइया जैसे नारी चरित्र जो हजारों वर्षों से भारतीय समाज के समक्ष आदर्श बने रहे हैं, क्या ये पौराणिक युग के नारी चरित्र भारतीय नारियों की कमजोरी के प्रतीक हैं ?

श्रीराम जन्मभूमि पर वामपंथी इतिहासकारों का मकड़जाल

वर्ष 2024 के आरम्भ में श्रीराम जन्मभूमि मंदिर का उद्घाटन होने के साथ ही यद्यपि रामजन्मभूमि संघर्ष का पटाक्षेप हो चुका है तथापि इस...

मैं भी जाट हूँ

एक बार ब्रिटिश संसद के अध्यक्ष बर्नाड वैदरहिल भारत की लोकसभा के अध्यक्ष डॉ. बलराम जाखड़ से कहा था कि मैं भी जाट हूँ। यह किस्सा सुनाने से पहले हम राजस्थान के एक गांव में रहने वाली सुनहरी बालों वाली लड़की का किस्सा जानते हैं।

जाट कौन हैं – कहाँ से आए हैं!

जाट कौन हैं - कहाँ से आए हैं! इस प्रश्न का उत्तर ढूंढना आसान नहीं है। यह एक प्राचीन भारतीय जाति है। भारत की...

क्या गुर्जर जनजाति है!

भारत में गुर्जरों का अधिवास बड़ी संख्या में पाया जाता है। यह जाति कश्मीर की घाटियों से लेकर, पंजाब की नदी क्षेत्रों, राजस्थान के मैदानों तथा नीचे मध्यप्रदेश आदि प्रांतों में पाई जाती है।

भारतीय दर्शन परम्परा

भारतीय दर्शन परम्परा षड्दर्शन के रूप में प्रकट हुई। दर्शन के ये समस्त छः अंग  अर्थात् सांख्य, योग, न्याय, मीमांसा, वेदांत और वैशेषिक; पूर्णतः आस्तिक हैं अर्थात् वे वेदों को प्रामाणिक मानते हैं। मीमांसा को छोड़कर अन्य सभी दर्शन ईश्वर की सत्ता को स्वीकार करते हैं।

विशिष्टाद्वैत के प्रवर्तक रामानुजाचार्य

यामुनाचार्य के पश्चात रामानुजाचार्य ने वैष्णव तत्व के प्रचार-प्रसार को तमिलनाडु से बाहर भी फैलाया तथा कर्नाटक के तोण्डसुर में जयस्तम्भ स्थापित किया। रामानुजाचार्य ने तमिलनाडु में श्रीरंगम के रंगनाथ (विष्णु) मंदिर में आचार्य पद पर अधिष्ठित रहते हुए मन्दिर में सेवा-अर्चा एवं अन्य व्यवस्थाओं से संबंधित नियमों का निर्धारण किया।

Stay Connected

21,585FansLike
2,651FollowersFollow
0SubscribersSubscribe
- Advertisement -spot_img

Latest Articles

// disable viewing page source