Sunday, June 16, 2024
spot_img

Ooops... Error 404

Sorry, but the page you are looking for doesn't exist.

गोस्वामी तुलसीदास का जीवनवृत्त

गोस्वामीजी का बाल्यकाल अत्यंत कठिन था। माँ उन्हें जन्म देने के कुछ समय बाद ही मृत्यु को प्राप्त हुई और पिता की छाया भी जल्दी ही छिन गई।

प्रथम सिद्ध सरहपाद

चौरासी सिद्धों की परम्परा में हुए प्रथम सिद्ध सरहपाद ने भारत के साहित्य, दर्शन एवं अध्यात्म को गहराई तक प्रभावित किया।

सरहपा का साहित्य

सरहपा का साहित्य सातवीं-आठवीं शताब्दी ईस्वी के भारत में भाषा, साहित्य एवं दर्शन की महत्वपूर्ण उपलब्धि थी। उन्हें हिन्दी सहित अनेक भाषाओं के प्रथम...

सरहपाद बौद्ध या हिन्दू !

सरहपाद अथवा सरहपा द्वारा प्रतिपादित सहजयान सम्प्रदाय को बौद्धधर्म के अंतर्गत गिना जाता है किंतु दार्शनिक स्तर पर सरहपाद बौद्धदर्शन से काफी दूर है।

श्रीराम जन्मभूमि मंदिर किसने तोड़ा?

महमूद गजनवी का उद्देश्य मंदिरों की सम्पदा को लूटना था। राममंदिर इसलिए महत्वहीन था क्योंकि वहाँ सम्पदा मिलने की आशा नहीं थी।

सती सावित्री सीता क्या कमजोर नारियाँ हैं?

सती, सावित्री, सीता एवं अनुसुइया जैसे नारी चरित्र जो हजारों वर्षों से भारतीय समाज के समक्ष आदर्श बने रहे हैं, क्या ये पौराणिक युग के नारी चरित्र भारतीय नारियों की कमजोरी के प्रतीक हैं ?

श्रीराम जन्मभूमि पर वामपंथी इतिहासकारों का मकड़जाल

वर्ष 2024 के आरम्भ में श्रीराम जन्मभूमि मंदिर का उद्घाटन होने के साथ ही यद्यपि रामजन्मभूमि संघर्ष का पटाक्षेप हो चुका है तथापि इस...

मैं भी जाट हूँ

एक बार ब्रिटिश संसद के अध्यक्ष बर्नाड वैदरहिल भारत की लोकसभा के अध्यक्ष डॉ. बलराम जाखड़ से कहा था कि मैं भी जाट हूँ। यह किस्सा सुनाने से पहले हम राजस्थान के एक गांव में रहने वाली सुनहरी बालों वाली लड़की का किस्सा जानते हैं।

Stay Connected

21,585FansLike
2,651FollowersFollow
0SubscribersSubscribe
- Advertisement -spot_img

Latest Articles

// disable viewing page source