Monday, September 26, 2022

चित्रकूट का चातक

इस उपन्यास में अकबर के प्रधान सेनापति अब्दुर्रहीम खनाखाना की जिंदगी को आधार बनाया गया है जो हिन्दी के सबसे बड़े कवियों में से एक हैं तथा भगवान श्रीकृष्ण के ऐसे भक्तों में सम्मिलित किए जाते हैं जिन्हें भगवान ने स्वयं दर्शन दिए!

Latest articles

प्रजापालक राजाओं के आदर्श महाराजा अग्रसेन

0
महाराजा अग्रसेन का इतिहास पाँच हजार साल से भी अधिक पुराना है। वे भगवान श्रीकृष्ण के समकालीन थे। उनका जन्म द्वापर के अंतिम चरण...

सम्पूर्ण विश्व भारतीय ज्योतिष एवं कालगणना का ऋणी है!

0
प्रसिद्ध फ्रांसीसी ज्योतिषी विओट ने लिखा है कि भारतीयों ने नक्षत्र ज्ञान चीनियों से ग्रहण किया। एक अन्य यूरोपीय विद्वान ह्विटनी भी इस मत...

हनुमान बाहुक में काल की करालता

0
हनुमानबाहुक एक लघु काव्यग्रंथ है जिसमें केवल 44 पद हैं। आचार्य रामचंद्र शुक्ल ने इसे गोस्वामी तुलसीदासजी की अत्यंत प्रौढ़ रचना माना है। अवधी...

चीन ने ढहा दीं भारत के चारों ओर चुनी हुई सरकारें!

2
19वीं शताब्दी के प्रारम्भ में फ्रांसीसी सम्राट नेपोलियन बोनापार्ट ने चीन के सम्बन्ध में चेतावनी देते हुए कहा था- 'वहाँ एक दैत्य सो रहा...

तेरी गठरी में लागा चोर!

0
जीवन एक अनंत यात्रा है जो जन्म-जन्मांतर तक चलती है। हम इस यात्रा के अनंत यात्री हैं। जैसा कि प्रत्येक यात्रा में होता है,...
// disable viewing page source