Wednesday, June 29, 2022
Home मध्यकालीन भारत लाल किले की दर्द भरी दास्तां

लाल किले की दर्द भरी दास्तां

इस धारवाहिक में शाहजहां द्वारा दिल्ली में लाल किला बनवाए जाने से लेकर भारत की स्वतंत्रता प्राप्ति तक के इतिहास का वह भाग दिया गया है जो दिल्ली एवं आगरा के लाल किलों की छत्रछाया में में घटित हुआ। इस काल में ये दोनों लाल किले भारत की सत्ता के प्रतीक बन गए थे।

Latest articles

साढ़े पांच रुपए में बिका करोड़ों का रेडियो!

0
एक बादशाह अपनी रियासत से रुखसत हो गया और किसी को कानोंकान खबर न हुई! जब मैंने इस धरती पर आखें खोलीं और घर की...

कोट बेच कर भी पुस्तकें खरीदिए

0
मैं बीसवीं सदी के उस दौर में पैदा हुआ जिसमें पुस्तक पढ़ने वाले व्यक्ति को अत्यंत आदर की दृष्टि से देखा जाता था। उस...

तेतीस करोड़ देवता कौनसे हैं?

0
प्रत्येक भाषा में कुछ शब्द ऐसे होते हैं जिनके एक से अधिक अर्थ होते हैं। ऐसे शब्दों को अनेकार्थक शब्द कहा जाता है। यदि...

181 क्या अनारकली पर अधिकार को लेकर लड़े थे अकबर और सलीम!

0
राजा मानसिंह कच्छवाहा तथा खानेआजम अजीज कोका ने अकबर के आदेश पर सलीम के पुत्र खुसरो को अकबर का उत्तराधिकारी घोषित करने की तैयारी...

182 महान् अकबर शराबी बेटों के लिए रोता हुआ संसार से चला गया!

0
अकबर ने सलीम की बगावत से नाराज होकर सलीम को राज्याधिकार से वंचित करने तथा सलीम के पुत्र खुसरो का अपना उत्तराधिकारी बनाने का...
// disable viewing page source