Tuesday, February 7, 2023
Home मध्यकालीन भारत लाल किले की दर्द भरी दास्तां

लाल किले की दर्द भरी दास्तां

इस धारवाहिक में शाहजहां द्वारा दिल्ली में लाल किला बनवाए जाने से लेकर भारत की स्वतंत्रता प्राप्ति तक के इतिहास का वह भाग दिया गया है जो दिल्ली एवं आगरा के लाल किलों की छत्रछाया में में घटित हुआ। इस काल में ये दोनों लाल किले भारत की सत्ता के प्रतीक बन गए थे।

Latest articles

न कांग्रेस के ही बन सके और न कम्युनिस्ट रह सके जानकी प्रसाद बगरहट्टा...

0
जानकी प्रसाद बगरहट्टा का परिवार मूलतः पंजाब के रेवाड़ी शहर से उठकर बीकानेर रियासत में आया था और वह डेढ़ सौ साल से बीकानेर...

जालोर का राजनीतिक एवं सांस्कृतिक इतिहास

0
जालोर का राजनीतिक एवं सांस्कृतिक इतिहास, लेखक डॉ. मोहनलाल गुप्ताद्वितीय संस्करण, 2022 प्रकाशित जालोर जिले में तीन प्रमुख नगर हैं- जालोर, भीनमाल एवं सांचोर। इन...

क्या भारत के लोगों का डीएनए एक है?

0
पिछले कुछ समय से देश के समक्ष यह अवधारणा प्रस्तुत की जा रही है कि विगत चालीस हजार साल से भारत के लोगों का...

बेबी को बाबुल नहीं बुरका पसंद है!

0
भारत की जनसंख्या वर्ष 2001 से 2011 के बीच में 1.7 प्रतिशत प्रतिवर्ष की दर से बढ़ी थी जबकि ई.2011 से 2022 के बीच...

प्रांतों की स्वाभाविक संस्कृति को कुचल रही हैं राजनीतिक पार्टियाँ!

0
लालची नेताओं के लिए वोट चरने का मैदान बन गए हैं प्रांत! भारत हजारों साल पुराना देश है जिसका स्वरूप समय-समय पर बदलता रहा है।...
// disable viewing page source