Saturday, June 19, 2021
Home मध्यकालीन भारत लाल किले की दर्द भरी दास्तां

लाल किले की दर्द भरी दास्तां

इस धारवाहिक में शाहजहां द्वारा दिल्ली में लाल किला बनवाए जाने से लेकर भारत की स्वतंत्रता प्राप्ति तक के इतिहास का वह भाग दिया गया है जो दिल्ली एवं आगरा के लाल किलों की छत्रछाया में में घटित हुआ। इस काल में ये दोनों लाल किले भारत की सत्ता के प्रतीक बन गए थे।

Latest articles

मुगल राज्य के विघटन में मेवाड़ की भूमिका

0
23 सितम्बर 1698 को महाराणा जयसिंह का निधन हो गया और उसका पुत्र अमरसिंह (द्वितीय) महाराणा हुआ। उसके शासन काल में 21 फरवरी 1707...

मराठा राजनीति में मेवाड़ (1)

0
छत्रपति शिवाजी ने मराठों के स्वतंत्र राज्य की स्थापना औरंगजेब के जीवन काल में ही कर दी थी। शिवाजी की मृत्यु के बाद औरंगजेब...

मराठा राजनीति में मेवाड़ (2)

0
मराठों के विरुद्ध विशाल अभियान नवम्बर 1734 में मुगल बादशाह मुहम्मदशाह रंगीला द्वारा वजीर कमरूद्दीन के नेतृत्व में एक विशाल सेना मालवा भेजी गई। दूसरी...

मराठा राजनीति में मेवाड़ (3)

0
अल्पवयस्क महाराणाओं के काल में मेवाड़ की दुर्दशा 5 जून 1751 को महाराणा जगतसिंह (द्वितीय) का निधन हो गया। उस समय उसका बड़ा पुत्र प्रतापसिंह...

मराठा और पिण्डारियों के प्रति ईस्ट इण्डिया कम्पनी की राजनीति

0
ई.1608 से ईस्ट इण्डिया कम्पनी भारत में व्यापार कर रही थी तथा व्यापारिक सुविधाओं के प्रसार के नाम पर, भारत के देशी राज्यों को...