Monday, September 26, 2022
Home मध्यकालीन भारत लाल किले की दर्द भरी दास्तां

लाल किले की दर्द भरी दास्तां

इस धारवाहिक में शाहजहां द्वारा दिल्ली में लाल किला बनवाए जाने से लेकर भारत की स्वतंत्रता प्राप्ति तक के इतिहास का वह भाग दिया गया है जो दिल्ली एवं आगरा के लाल किलों की छत्रछाया में में घटित हुआ। इस काल में ये दोनों लाल किले भारत की सत्ता के प्रतीक बन गए थे।

Latest articles

प्रजापालक राजाओं के आदर्श महाराजा अग्रसेन

0
महाराजा अग्रसेन का इतिहास पाँच हजार साल से भी अधिक पुराना है। वे भगवान श्रीकृष्ण के समकालीन थे। उनका जन्म द्वापर के अंतिम चरण...

सम्पूर्ण विश्व भारतीय ज्योतिष एवं कालगणना का ऋणी है!

0
प्रसिद्ध फ्रांसीसी ज्योतिषी विओट ने लिखा है कि भारतीयों ने नक्षत्र ज्ञान चीनियों से ग्रहण किया। एक अन्य यूरोपीय विद्वान ह्विटनी भी इस मत...

हनुमान बाहुक में काल की करालता

0
हनुमानबाहुक एक लघु काव्यग्रंथ है जिसमें केवल 44 पद हैं। आचार्य रामचंद्र शुक्ल ने इसे गोस्वामी तुलसीदासजी की अत्यंत प्रौढ़ रचना माना है। अवधी...

चीन ने ढहा दीं भारत के चारों ओर चुनी हुई सरकारें!

2
19वीं शताब्दी के प्रारम्भ में फ्रांसीसी सम्राट नेपोलियन बोनापार्ट ने चीन के सम्बन्ध में चेतावनी देते हुए कहा था- 'वहाँ एक दैत्य सो रहा...

तेरी गठरी में लागा चोर!

0
जीवन एक अनंत यात्रा है जो जन्म-जन्मांतर तक चलती है। हम इस यात्रा के अनंत यात्री हैं। जैसा कि प्रत्येक यात्रा में होता है,...
// disable viewing page source