Sunday, June 16, 2024
spot_img

12. राठौड़ राजाओं को बिल्कुल पसंद नहीं था औरंगजेब!

इन तीनों राजाओं के साथ औरंगजेब को किसी न किसी मोर्चे पर रहने का अवसर मिला था और इन तीनों ने ही राजाओं ने कभी कोई युद्ध नहीं हारा था किंतु कभी भी किसी भी युद्ध की जीत का सेहरा अपने सिर पर नहीं लिया था। फिर भी औरंगजेब इन तीनों राठौड़ राजाओं को पसंद नहीं करता था।

दूसरी ओर औरंगज़ेब के घमण्डी स्वभाव के कारण महाराजा जसवंतसिंह राठौड़, महाराजा रूपसिंह राठौड़ तथा महाराजा कर्णसिंह राठौड़ भी औरंगज़ेब को पसंद नहीं करते थे तथा वे तीनों ही सल्तनत के अगले बादशाह के रूप में दारा शिकोह को देखा करते थे।

औरंगज़ेब इन तीनों हिन्दू राजाओं की राजनीति को अच्छी तरह समझता था तथा दारा शिकोह से उनके सम्बन्धों के कारण मन ही मन भयभीत भी रहता था। इसलिए वह ऊपर से तो इन हिन्दू राजाओं से अपने सम्बन्ध खराब नहीं करता था किंतु मन ही मन यह इच्छा अवश्य रखता था कि मौका मिलते ही इन तीनों को निबटा दे।

औरंगजेब की दृष्टि में इन तीनों हिन्दू राजाओं ने दारा के साथ मिलकर, बादशाह का दिमाग तीनों छोटे शहजादों की तरफ से फेर दिया था। इसलिए औरंगजेब न केवल दारा शिकोह तथा इन तीनों राठौड़ राजाओं से अपितु स्वयं शाहजहाँ से भी बेइंतहा नफरत करता था।

इस रोचक इतिहास का वीडियो देखें-

जिस समय शाहजहाँ आगरा पहुंचकर दुबारा बीमार पड़ा, औरंगजेब, आगरा से लगभग ढाई हजार किलोमीटर दूर स्थित दक्षिण का सूबेदार था।

न केवल लाल किले की दीवारों से अपितु एक दूसरे से भी हजारों किलोमीटर दूर बैठे शाहशुजा, औरंगज़ेब तथा मुराद बक्श पत्र-व्यवहार द्वारा एक दूसरे के सम्पर्क में थे। इन पत्रों के माध्यम से ही उनमें सल्तनत के विभाजन के लिए समझौता हो गया।

हालांकि तीनों ही जानते थे कि इस समझौते का कोई अर्थ नहीं है क्योंकि हर हाल में केवल एक ही शहजादा पूरी सल्तनत पर कब्जा करेगा और बाकी के तीनों शहजादों को या तो अंधे होकर किसी किले में पड़े रहना होगा या किसी युद्ध के मैदान में किसी तलवार के नीचे अपने प्राण छोड़ने होंगे।

To purchase this book, please click on photo.

फिर भी इस समय तीनों का लक्ष्य एक ही था- दारा शिकोह। इसलिए इन तीनों शाहजादों ने सबसे पहले दारा की शक्ति को छिन्न-भिन्न करने का निश्चय किया।

जब औरंगज़ेब ने सुना कि बादशाह ने अमीरों और अहलकारों को आदेश दिया है कि वे केवल दारा शिकोह के आदेश स्वीकार करें तो वह समझ गया कि शाहजहाँ के इस कदम से लाल किला औरंगज़ेब की पहुँच से बहुत दूर हो गया है। बहिन रौशनआरा द्वारा भेजी गई इस सूचना से औरंगज़ेब परेशान तो हुआ किंतु वह जल्दी से हार मानने वाला नहीं था।

औरंगज़ेब न केवल हिन्दुस्तान की किस्मत का मालिक बनना चाहता था अपितु बड़े भाई दारा शिकोह के कारण मुगलिया राजनीति जिस गलत दिशा में चल पड़ी थी, उस दिशा का मुँह भी मोड़ देना चाहता था।

औरंगज़ेब की दृष्टि में उसका बड़ा भाई दारा शिकोह एक काफिर था जो इस्लाम के काम को आगे बढ़ाने की बजाय काफिर हिन्दुओं को बढ़ावा देता था तथा हिन्दू ग्रंथों का अरबी एवं फारसी में अनुवाद करवाता था। इस नाते वह इस्लाम का अपराधी था।

औरंगज़ेब इस समय लाल किले से ढाई हजार किलोमीटर दूर दक्षिण के भयानक मोर्चों पर शिया मुसलमानों से जूझ रहा था। यहाँ भी औरंगज़ेब के इरादे दारा शिकोह से मेल नहीं खाते थे। दारा शिकोह केवल यह चाहता था कि दक्षिण के शिया राज्य मुगलों की अधीनता स्वीकार करके प्रतिवर्ष निर्धारित कर दिया करें किंतु औरंगज़ेब इन शिया राज्यों का उच्छेदन करके उन्हें पूर्णतः नष्ट करना चाहता था। उसकी दृष्टि में शिया भी वैसे ही काफिर थे जैसे कि हिन्दू।

शियाओं के प्रति दारा शिकोह की नीतियों को लेकर औरंगज़ेब अपने दोस्तों के सामने यह कहने में नहीं हिचकिचाता था कि कि लाल किले का असली वारिस केवल एक सुन्नी ही हो सकता है और वह केवल औरंगज़ेब ही है। यदि ऐसा नहीं हुआ तो एक दिन हिन्दुस्तान पर भी फारस की तरह शियाओं का राज्य हो जाएगा। ऐसा कहते हुए औरंगज़ेब एक पल के लिए भी नहीं सोचता था कि उसकी अपनी बेगम दिलरास बानू भी एक शिया अमीर की बेटी है।

-डॉ. मोहनलाल गुप्ता

Related Articles

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Stay Connected

21,585FansLike
2,651FollowersFollow
0SubscribersSubscribe
- Advertisement -spot_img

Latest Articles

// disable viewing page source