Wednesday, February 21, 2024
spot_img

42. रोमन कैथोलिक चर्च के प्रमुख सिद्धांत एवं शिक्षाएं

कैथोलिक चर्च मानता है कि इस जगत में एक अनन्त परमेश्वर, तीन व्यक्तियों के रूप में स्थित है- परमेश्वर पिता, परमेश्वर पुत्र और पवित्र आत्मा। ये तीनों एक साथ मिलकर त्रिमूर्ति (ट्रिनिटी) का निर्माण करते हैं।

कैथोलिक धर्म विश्वास करता है कि ‘चर्च’ पृथ्वी पर यीशू की सतत उपस्थिति है। चर्च परमेश्वर के लोगों को सूचित करता है कि जो यीशू मसीह के आज्ञा पालन में निरत रहते हैं और और जो मसीह की देह के साथ पोषित होते हैं, वे मनुष्य, मसीह की देह हो जाते हैं। पोप सम्बन्धी ‘मिस्टीक कोर्पोरिस क्रिस्टी’ (ईसाई धर्म सम्बन्धी रहस्यवाद) में कैथोलिक चर्च को मसीह के रहस्यात्मक शरीर के रूप में वर्णित किया गया है।

चर्च मानता है कि मुक्ति के साधन की परिपूर्णता केवल कैथोलिक चर्च में ही मौजूद है, किन्तु यह भी मानता है कि पवित्र आत्मा ईसाईयत से स्वयं को अलग किये हुए समुदाय के उद्धार के लिए भी कार्य कर सकती है। जो कोई व्यक्ति बचाया जाता है, परोक्ष रूप से चर्च के माध्यम से बचाया जाता है।

कैथोलिक चर्च यीशू मसीह द्वारा स्थापित किया गया था। नव विधान यीशू मसीह के कार्यों और शिक्षाओं को बारह प्रेरितों की नयुक्ति और उनको अपने कार्य जारी रखने के लिए दिए गए अधिकारों का वर्णन करता है। चर्च का मानना है कि यीशू मसीह ने अपने शिष्य साइमन पीटर को प्रेरितों के नेता के रूप में इस उद्घोषणा के साथ नियुक्त किया- ‘इस चट्टान से मैं अपने चर्च का निर्माण करूंगा ….. मैं तुम्हें स्वर्ग के राज्य की कुंजियां दूंगा …..।’

चर्च कहता है कि प्रेरितों पर पवित्र आत्मा का आगमन पेंटेकोस्ट के रूप में जाना जायेगा, जो चर्च की सार्वजनिक सेवा की शुरुआत का संकेत है। तब से, सभी विधिवत् पवित्र धर्माध्यक्षों को प्रेरितों का उत्तराधिकारी माना जाता है और वे पवित्र प्रेरितों से प्राप्त पवित्र परम्परा को जारी रखते हैं।

ईसा मसीह के सम्बन्ध में अवधारणा

कैथोलिक ईसाइयों का मानना है कि मसीह पूर्व विधान की मुक्तिदायिनी भविष्यवाणियों के मसीहा हैं। एक ऐसी घटना जिसे अवतार के रूप में जाना जाता है, जिसके बारे में चर्च बताता है कि पवित्र आत्मा की शक्ति के माध्यम से, परमेश्वर मानव प्रकृति के साथ एकजुट हो गये, तब ‘मसीह’ कुमारी माता मरियम के गर्भ में आए।

TO PURCHASE THIS BOOK, PLEASE CLICK THIS PHOTO.

इस कारण मसीह को पूरी तरह से दिव्य और पूरी तरह से मानव दोनों माना जाता है। चर्च द्वारा यह सिखाया जाता है कि पृथ्वी पर मसीह का मिशन, जिसमें लोगों को उनकी शिक्षाओं के बारे में बताना और उन्हें स्वयं का उदाहरण प्रदान करना शामिल है, जैसा कि चार धर्म उपदेशों में दर्ज है।

माता मरियम के सम्बन्ध में कैथोलिक चर्च की अवधारणा

मरियम की प्रार्थनाएं और भक्ति कैथोलिक धार्मिकता का हिस्सा हैं किन्तु परमेश्वर की पूजा से पृथक हैं। चर्च ‘मैरी’ को नित्य कुमारी और परमेश्वर की माता के रूप में विशेष आदर प्रदान करता है। मरियम के सम्बन्ध में कैथोलिक विश्वासों में मूल पाप के दाग के बिना पवित्र गर्भाधान तथा जीवन के अंत में शारीरिक धारणा के साथ स्वर्ग में स्थान शामिल हैं। इन दोनों मान्यताओं को ई.1854 में पोप पायस (नवम्) तथा ई.1950 में पोप पायस (बारहवें) ने सिद्धांत के रूप में परिभाषित किया था।

‘मैरीऑलोजी’ न केवल माता मैरी के जीवन के बारे में अपितु उनके दैनिक जीवन में पूजा, प्रार्थना और मैरियन कला, संगीत और वास्तुकला पर विस्तार से प्रकाश डालती है। चर्च वर्ष के दौरान अनेक मैरियन मरणोत्तर भोज का आयोजन करता है और उन्हें अनेक उपाधियों, जैसे कि, ‘स्वर्ग की रानी’ आदि से विभूषित किया जाता है।

पोप पॉल (षष्ठम्) ने उन्हें ‘चर्च की माँ’ कहकर पुकारा, क्योंकि यीशू मसीह को जन्म देने के कारण वह यीशू के शरीर से जुड़े सभी सदस्यों की आध्यात्मिक माँ हुईं। उनके द्वारा यीशू के जीवन में प्रभावशाली भूमिका निभाने के कारण उनकी प्रार्थना और भक्ति, माला, जय हो मैरी, साल्वे रेजाइना और मैमोरारे सामान्य कैथोलिक व्यवहार हैं।

चर्च ने मेरियन की आभासी छाया की विश्वसनीयता की पुष्टि अवर लेडी ऑफ लूर्डेस, फातिमा, ग्वाडालूप और विस्कोंसिन, लेडी ऑफ गुड होप आदि के रूप में की है। इन तीर्थस्थलों की यात्राएं लोकप्रिय कैथोलिक भक्तियां हैं।

चर्च की दृष्टि में पाप कर्म

पाप कर्म में शामिल होने को यीशू मसीह के विपरीत होना माना जाता है। पाप करने से व्यक्ति की आत्मा ईश्वर के प्रेम से दूर हो जाती है। पापों की शृंखला परमेश्वर के साथ व्यक्ति के सम्बन्ध को समाप्त कर सकती है।

आध्यात्मिक अमरता

 चर्च के अनुसार मसीह का जुनून (पीड़ा) और उनको सलीब पर चढ़ाये जाने के प्रति प्रेम, सभी लोगों के लिए अपने पापों से मुक्ति और क्षमा प्राप्ति का एक अवसर है। ताकि परमेश्वर से मिलाप हो सके। कैथोलिक विश्वास के अनुसार, यीशू के जी उठने, ने मनुष्यों के लिए एक संभव आध्यात्मिक-अमरता प्राप्त की, जो पहले मूल-पापों की वजह से उन्हें नहीं दी गई थी। चर्च का मानना है कि मसीह के शब्दों और कर्मों का पालन करके, कोई भी व्यक्ति परमेश्वर के राज्य में प्रवेश कर सकता है।

संस्कार परमेश्वर के स्वरूप हैं

ट्रेंट की परिषद के अनुसार, मसीह ने सात संस्कार स्थापित कर उन्हें चर्च को सौंपा था। इन संस्कारों में पुष्टिकरण, बपतिस्मा, युकेरिस्ट, सामंजस्य (तपस्या), बीमार को तेल लगाना (चर्म लेप या अंतिम संस्कार), पवित्र आदेश और पवित्र विवाह के बंधन सम्मिलित हैं। ‘संस्कार’ महत्त्वपूर्ण दृश्य रिवाज है जिसे कैथोलिक ‘परमेश्वर की उपस्थिति’ के रूप में देखते हैं।

पुष्टिकरण संस्कार

कैथोलिकों का विश्वास है कि पुष्टिकरण संस्कार के माध्यम से मनुष्य, पवित्र आत्मा को प्राप्त करते हैं और बप्तिस्मा के समय प्राप्त होने वाला आशीर्वाद सशक्त होता है। ठीक से पुष्टि के लिए कैथोलिकों को अनुग्रह की अवस्था में होना चाहिए, जिसका अर्थ हैं कि वे स्वीकार नहीं किये जाने वाले नैतिक पापों के विरुद्ध सचेत रहेंगे। उन्हें पुष्टिकरण के लिए आध्यात्मिक रूप से तैयार रहना चाहिए, साथ ही आध्यात्मिक सहायता के लिए एक प्रायोजक चुनकर, एक संत का उनके विशेष संरक्षण और हिमायत के लिए चुनाव करना चाहिये।

बपतिस्मा

पूर्वी कैथोलिक चर्चों में पुष्टिकरण के तुरंत बाद ‘शिशु-बपतिस्मा’ किया जाता है जिसे ईसाईकरण (क्रिस्मेसन) कहा जाता है और इसे ‘परम-कृपा का अभिनन्दन’ माना जाता है।

पापों से मुक्ति के लिए प्रायश्चित संस्कार

बपतिस्मा के बाद कैथोलिक ‘प्रायश्चित’ संस्कार के माध्यम से अपने पापों के लिए क्षमा प्राप्त कर सकते हैं। इस संस्कार में, व्यक्ति एक पादरी के समक्ष अपने पापों को स्वीकार करता है। पादरी उस व्यक्ति को सलाह देता है और विशेष प्रायश्चित करने के लिए कहता है। तदुपरांत पादरी औपचारिक रूप से उस व्यक्ति के पापों को क्षमा कर देता है और उस व्यक्ति के पाप मुक्त होने की घोषणा करता है।

पादरी किसी भी पाप या बयान के प्रकटीकरण के तहत सुनी गई बातों को किसी के भी समक्ष प्रकट नहीं करते। व्यक्ति द्वारा अपने पापों को स्वीकार करने और क्षमा प्राप्त करने के बाद चर्च द्वारा उसे एक क्षमा-पत्र प्रदान किया जा सकता है। एक क्षमा-पत्र नरक में मिलने वाले पापों से आंशिक या पूर्ण रूप से छुटकारा दिला सकता है।

सार्वभौमिक न्याय

चर्च के अनुसार, मृत्यु के तुरंत बाद प्रत्येक व्यक्ति की आत्मा के बारे में परमेश्वर की ओर से एक विशेष निर्णय प्राप्त होगा जो कि व्यक्ति के सांसारिक जीवन के कर्मों के आधार पर होगा। एक दिन जब मसीह समस्त मानव जाति के लिए सार्वभौमिक न्याय करेंगे। यह अंतिम निर्णय मानव इतिहास का अंत लाने के लिए तथा एक नए और बेहतर स्वर्ग एवं पृथ्वी पर परमेश्वर के धर्म-शासन की शुरुआत होने का प्रतीक होगा।

देवदूत मैथ्यू द्वारा किए जाने वाले विस्तृत वर्णन के आधार पर प्रत्येक व्यक्ति की आत्मा के बारे में निर्णय लिया जायेगा। माना जाता है मैथ्यू के सुसमाचार में निम्नतम लोगों द्वारा किये गए दया के कार्यों को भी शामिल किया जायेगा।

कैथोलिक प्रश्नोत्तरी के अनुसार, अंतिम निर्णय भी स्वयं से आगे का परिणाम प्रस्तुत करेगा, व्यक्ति ने अपने सांसारिक जीवन के दौरान जो अच्छे कार्य किये हैं या वैसा करने में असफल हो गए हैं, को प्रकट करेगा। प्रस्तुत निर्णय के अनुसार, एक आत्मा जीवन के बाद के तीन राज्यों में से किसी एक में प्रवेश करती है। ‘स्वर्ग’ परमेश्वर के साथ शानदार संयोजन और अकथ्य खुशी का जीवन है, जो हमेशा के लिए रहता है। ‘यातना’ आत्मा की शुद्धि के लिए एक अस्थायी स्थिति है।

जो व्यक्ति पर्याप्त रूप से पाप-मुक्त नहीं हैं, वे सीधे स्वर्ग में प्रवेश नहीं कर सकते, उन्हें यातना से गुजराना होता है। नर्क की आत्माओं को श्रद्धालुजन की प्रार्थनाओं और पवित्र लोगों की सहानुभूति के द्वारा स्वर्ग में पहुँचने में सहायता मिलती है। जिन व्यक्तियों ने पाप-पूर्ण और स्वार्थमय जीवन चुना है और जो पश्चाताप नहीं करते तथा पूर्णतः अपने तरीके से जीना चाहते हैं, नर्क में भेजे जाते हैं जो कि परमेश्वर से एक चिरस्थायी जुदाई होती है।

किसी को भी नर्क में तब तक नहीं भेजा जाता है जब तक कि उसने स्वतंत्र रूप से परमेश्वर को अस्वीकार करने का फैसला नहीं लिया है। किसी भी व्यक्ति का नर्क में जाना पूर्व-निर्धारित नहीं है और न ही कोई इस बात का निर्णय कर सकता है कि किसी की निंदा की गई है या नहीं! रोमन कैथोलिक ईसाई धर्म सिखाता है कि परमेश्वर की दया से कोई व्यक्ति मृत्यु से पहले जीवन के किसी भी बिंदु पर पश्चाताप करके पापों से मुक्त हो सकता है।

कुछ कैथोलिक ब्रह्मविज्ञानियों का विचार है कि ‘अ-बपतिस्मा हुए शिशुओं की आत्माएं’ जो मूल-पाप में मर जाते हैं, वे उपेक्षित स्थान को जाते हैं, हालांकि यह चर्च का अधिकारिक सिद्धांत नहीं है।

कैथोलिक विश्वासों का संग्रह

कैथोलिक विश्वासों का ‘नाइसीन पंथ’ में सारांशित और ‘कैथोलिक चर्च की प्रश्नोत्तरी’ में विस्तृत रूप से वर्णन है। धर्मप्रचार में मसीह के वादे के आधार पर, चर्च का मानना है कि यह लगातार पवित्र आत्मा के द्वारा निर्देशित है और इसलिए सैद्धांतिक त्रुटि में गिरने से बिना गलती किए रक्षित है। कैथोलिक चर्च सिखाता है कि पवित्र आत्मा परमेश्वर की सच्चाई को पवित्र धर्मग्रन्थ, पवित्र परम्परा और मैजिस्टीरियम के माध्यम से उद्घाटित करता है।

पवित्र धर्मग्रंथ

कैथोलिक पवित्र धर्मग्रन्थों में 73 कैथोलिक बाइबिल पुस्तकें हैं। इनमें 46 प्राचीन ग्रीक संस्करण की पूर्व विधान की पुस्तकें हैं, जिन्हें ‘सेप्तुआजिन्त’ कहा जाता है और 27 नव विधान की पुस्तकें हैं जो पहले कोडेक्स वैटिकन्स ग्रैकस 1209 में पाई गईं और ‘अथानासिउस’ के उन्तालीसवें आनंदित पत्र में सूचीबद्ध हैं।

चर्च की शिक्षाएं

पवित्र परम्परा में चर्च की शिक्षाएं शामिल हैं जिनके बारे में चर्च मानता है कि वे प्रेरितों के समय से चली आ रही हैं। पवित्र शास्त्र और पवित्र परम्परा सामूहिक रूप से ‘विश्वास की जमा’ के रूप में जाना जाता है। इन सबकी व्याख्या मैजिस्टीरियम द्वारा की गई है। मैजिस्टर लैटिन शब्द है जिसका अर्थ है- ‘शिक्षक’।

मरणोत्तर संस्कार

कैथोलिक चर्च में प्रचलित मरणोत्तर परम्पराओं अथवा संस्कारों का अंतर, मान्यताओं में अंतर के बजाय ऐतिहासिक और सांस्कृतिक विविधता को दर्शाती हैं। मरणोत्तर संस्कारों में सर्वाधिक प्रयुक्त होने वाली प्रक्रिया रोमन संस्कार हैं परन्तु लैटिन कैथोलिक चर्च में कुछ अन्य संस्कार भी उपयोग में लाये जाते हैं और वे पूर्वी कैथोलिक चर्चों में प्रयुक्त होने वाले संस्कारों से अलग हैं।

वर्तमान में रोमन अनुष्ठान के दो रूप अधिकृत रूप से प्रचलित हैं। ई.1962 के पूर्व की रोमन मिसल (पॉल षष्ठम् की प्रार्थना) अब संस्कार का साधारण रूप है और ज्यादातर स्थानीय भाषा में मनाया जाता है। संयुक्त राज्य अमेरिका में, अंग्रेजी प्रयोग लुप्त होता जा रहा है, कुछ रोमन संस्कार अंग्रेजी के मरणोत्तर संस्कार के कई पहलुओं को बरकरार रखे हुए हैं। अन्य गैर रोमन पश्चिमी संस्कारों में अम्ब्रोसियन अनुष्ठान और मोजराबिक संस्कार शामिल हैं।

पूर्वी कैथोलिक चर्च के द्वारा प्रयोग किये गए संस्कारों में बीजान्टिन संस्कार, अलेक्जेन्द्रिया या कोप्टिक संस्कार, सिरिएक संस्कार, अर्मेनियाई संस्कार, मरोनिते संस्कार और कलडीन संस्कार शामिल हैं।

युकेरिस्ट

युकेरिस्ट या मास, कैथोलिक पूजा केंद्र है। कैथोलिक ईसाइयों का मानना है कि प्रत्येक मास में, रोटी और शराब अलौकिक रूप से मसीह के शरीर और रक्त में रूपांतरित हैं। चर्च की मान्यता है कि मसीह के अंतिम भोजन में मानवता के साथ एक नया नियम युकेरिस्ट की संस्था के माध्यम से स्थापित हुआ। चर्च के अनुसार मसीह युकेरिस्ट में मौजूद हैं। कैथोलिकों को प्रोटेस्टेंट चर्च में समन्वय प्राप्त करने की अनुमति नहीं है, क्योंकि पवित्र आदेश और युकेरिस्ट के बारे में उनकी अलग मान्यताएं और तरीके हैं। इसी तरह, प्रोटेस्टेंट को कैथोलिक चर्च में समन्वय प्राप्त करने की अनुमति नहीं है। पूर्वी ईसाइयत के चर्चों के सम्बन्ध में, कैथोलिक चर्च कम प्रतिबंधक है।

कैथोलिक पदानुक्रम और संस्थाएं

चर्च मानता है कि मसीह ने पोप का पद स्थापित किया था। चर्च के अनुक्रम का नेतृत्व रोम के धर्माध्यक्ष पोप द्वारा किया जाता है। पोप रोमन प्रांत के प्रधान धर्माध्यक्ष और महानगरीय, इटली के धर्माधिपति, लेटिन चर्च के आचार्य, तथा सार्वलौकिक चर्च के श्रेष्ठ धर्माध्यक्ष आदि के रूप में भी कार्य करते हैं। धर्माध्यक्ष के रूप में, वे ईसा मसीह के प्रतिनिधि हैं तथा रोम के धर्माध्यक्ष के रूप में वे संतों के उत्तराधिकारी हैं।

पीटर और पॉल तथा परमेश्वर के सेवकों के सेवक, वे वेटिकन सिटी के प्रधान भी हैं। प्रशासन में सलाह और सहायता के लिए, पोप शायद अनुक्रम के अगले स्तर कॉलेज के प्रधान में बदल सकते हैं। पोप की मृत्यु होने पर या पद छोड़ने पर, 80 साल की उम्र के अंतर्गत जो कॉलेज के धर्म प्रधान सदस्य आते हैं वे मिलकर नये पोप का चुनाव करते हैं।

हालांकि कैथोलिक सम्मेलन किसी भी कैथोलिक पुरुष को सैद्धांतिक रूप से पोप नियुक्त कर सकता था, ई.1389 के बाद से केवल धर्म-प्रधानों को ही उस स्तर तक उठाया गया है।

कैथोलिक चर्च में वर्ष 2008 तक 2,795 धर्म-प्रदेश शामिल थे। इनकी देख-रेख धर्माध्यक्ष द्वारा की जाती थी। धर्म-प्रदेश व्यक्तिगत समुदायों में विभाजित किये जाते हैं जिन्हें बस्ती कहा जाता है, प्रत्येक बस्ती में एक से अधिक पादरी, छोटे पादरी तथा धर्माध्यक्षों के सह-कार्यकर्ता होते हैं। ये लोग प्रवचन देना, सिखाना, नाम रखना, गवाह विवाह कराना तथा अंतिम संस्कार की पूजन पद्धति कराना आदि कार्य करते हैं।

धर्माध्यक्ष और पादरियों को युहरिस्ट, मिलाप (प्रायश्चित्त) तथा बीमार का अभिषेक कराना आदि संस्कार करवाने की अनुमति है। केवल धर्माध्यक्ष ही पवित्र आदेशों का संस्कार कर सकते हैं। इस समय कैथोलिक चर्च से सम्बद्ध चर्चों में चार लाख से अधिक पादरी कार्यरत हैं।

अधिकतर संत तथा नन एक तपस्वी के समान कैथोलिक धार्मिक व्यवस्था में प्रवेश करते हैं, जैसे कि संत बेनिडिक्ट के अनुयायी, रोमन कैथोलिक तपस्वी, डोमीनिसियंस, फ्रांसिसकंस तथा दया की बहनें इत्यादि। वर्तमान में दुनिया भर में कैथोलिक चर्च के अनुयाइयों की संख्या 100 करोड़ से अधिक है। यदि कोई ईसाई औपचारिक रूप से चर्च छोड़ता है तो यह तथ्य व्यक्ति के बपतिस्मा रजिस्टर में नोट किया जाता है।

Dr. Mohanlal Gupta
Dr. Mohanlal Gupta
Dr. Mohan Lal Gupta is a renowned historian from India. He has written more than 100 books on various subjects.

Related Articles

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Stay Connected

21,585FansLike
2,651FollowersFollow
0SubscribersSubscribe
- Advertisement -spot_img

Latest Articles

// disable viewing page source