Wednesday, June 29, 2022

अध्याय – 3 : अँग्रेजों के आगमन के समय भारत की राजनीतिक स्थिति – 2

क्षेत्रीय राज्यों का उदय

मुगलों की कमजोरी का लाभ उठाते हुए राजपूतों, सिक्खों, मराठों तथा मुगल अमीरों ने अपने-अपने राज्यों की स्थापना करने एवं उन्हें मजबूत बनाने का प्रयत्न किया। अनेक महत्त्वाकांक्षी सामन्तों एवं सूबेदारों ने स्वतंत्र तथा अर्द्ध-स्वंतत्र राज्यों की स्थापना की। ये लोग दिल्ली के बादशाह के प्रति नाममात्र की निष्ठा रखते थे। यह सिलसिला 1712 ई. में बहादुरशाह (प्रथम) की मृत्यु के बाद ही आरम्भ हो गया था। इसके परिणाम स्वरूप उत्तर एवं दक्षिण भारत में अनेक क्षेत्रीय राज्यों का उदय हुआ। इनमें से कुछ राज्यों के शासक, मुगल सल्तनत से पृथक् राज्य स्थापित करने के बाद भी मुगल सल्तनत के अन्तर्गत बने रहने की घोषणा करते रहे।

हैदराबाद

 निजाम-उल-मुल्क: दक्षिण भारत में हैदराबाद के स्वतंत्र राज्य की स्थापना औरंगजेब के मनसबदार चिनकुलीचखाँ ने की। औरंगजेब की मृत्यु के समय वह बीजापुर में था। बहादुरशाह (प्रथम) ने उसे अवध का सूबेदार नियुक्त किया। बहादुरशाह की मृत्यु के बाद चिनकुलीच खाँ ने जहाँदारशाह के विरुद्ध फर्रूखसियर की सहायता की। अतः फर्रूखसियर ने बादशाह बनने पर चिनकुलीचखाँ को दक्षिण भारत के छः सूबों की सूबेदारी तथा खानखाना और निजाम-उल-मुल्क बहादुर फतहजंग की उपाधियाँ प्रदान कीं। 1715 ई. में उसे पुनः दिल्ली बुलाया गया। उसे पहले मुरादाबाद की और फिर मालवा की सूबेदारी दी गई। चिनकुलीचखाँ (निजाम-उल-मुल्क) ने मालवा में अपनी शक्ति का विस्तार किया जिससे सैयद भाई उससे ईर्ष्या करने लगे। सैयद भाइयों ने बादशाह फर्रूखसियर पर दबाव डालकर दिलावरखाँ को मालवा का सूबेदार नियुक्त करवा दिया। निजाम-उल-मुल्क ने इसका विरोध किया और उसने एक युद्ध में दिलावरखाँ को मार डाला। निजाम-उल-मुल्क ने बुरहानपुर और असीरगढ़ के दुर्गों पर भी अधिकार कर लिया। इस प्रकार वह दक्षिण-पथ का स्वामी बन गया। फर्रूखसियर के बाद मुहम्मदशाह को बादशाह बनाया गया। मुहम्मदशाह ने सैयद भाइयों को समाप्त कर दिया और निजाम-उल-मुल्क को वजीर का पद देकर दिल्ली बुलाया। निजाम-उल-मुल्क दिल्ली आकर सल्तनत का काम करने लगा। वह सल्तनत की व्यवस्था सुधारना चाहता था किंतु मुहम्मदशाह को शीघ्र ही कुछ लोगों ने निजाम-उल-मुल्क के विरुद्ध भड़का दिया। इस कारण मुहम्मदशाह, निजाम-उल-मुल्क को नापसंद करने लगा और उसके सामने ही उसका उपहास करने लगा। बादशाह सरेआम लोगों से कहता था- ‘देखो दक्षिण का गधा कितना सुंदर नाचता है।’

इस कारण निजाम-उल-मुल्क नाराज होकर पुनः दक्षिण भारत चला गया। दक्षिण के नये सूबेदार मुबारिजखाँ ने उसका विरोध किया किंतु निजाम-उल-मुल्क ने मराठों की सहायता से मुबारिजखाँ को परास्त कर दिया। इस पर मुहम्मदशाह की आंखें खुलीं। उसने निजाम को अपने पक्ष में करने के लिये दक्षिण के 6 सूबे प्रदान किये। निजाम ने हैदराबाद को अपनी राजधानी बनाकर स्वतंत्र रूप से शासन व्यवस्था स्थापित कर ली। इस प्रकार लगभग 1720 ई. के लगभग हैदराबाद के स्वतंत्र राज्य की स्थापना हुई। निजाम ने अपने राज्य की सीमाएँ ताप्ती नदी से लेकर कर्नाटक, मैसूर और त्रिचनापल्ली तक बढ़ा लीं। निजाम ने यद्यपि पूर्ण स्वतंत्र शासक की भाँति शासन किया किंतु उसने न तो अपने नाम के सिक्के चलाये और न राजछत्र धारण किया। उसने मुगल बादशाह से सम्बन्ध विच्छेद भी नहीं किया।

बंगाल, बिहार और उड़ीसा

मुर्शीदकुलीखाँ: 1707 ई. में मुर्शीदकुलीखाँ बंगाल का नायब नाजिम तथा उड़ीसा का नाजिम था। 1713 ई. में फर्रूखसियर के शासनकाल में उसे बंगाल का सूबेदार नियुक्त किया गया। उसके समय में बंगाल में शांति रही और व्यापार को प्रोत्साहन मिला।

शुजाउद्दीन मुहम्मद: 1727 ई. में मुर्शीदकुलीखाँ की मृत्यु के बाद उसका दामाद शुजाउद्दीन मुहम्मदखाँ बंगाल और उड़ीसा का सूबेदार बना। मुहम्मदशाह रंगीला ने 1733 ई. में उसे बिहार का सूबा भी दे दिया। इस प्रकार, बंगाल, उड़ीसा और बिहार तीनों सूबे उसके शासन के अन्तर्गत चले गये तथा केन्द्रीय सत्ता का प्रभाव नाममात्र का रह गया। उसके शासनकाल में भी इन सूबों में शान्ति बनी रही।

सरफराजखाँ: शुजाउद्दीन की मृत्यु के बाद 1739 ई. में उसका पुत्र सरफराजखाँ सूबेदार बना। वह अत्यधिक विलासी प्रवृत्ति का था। इस कारण शासन व्यवस्था बिगड़ गई। ऐसी स्थिति में बिहार के नायब सूबेदार अलीवर्दीखाँ ने उस पर आक्रमण कर दिया। युद्ध में सरफराजखाँ परास्त हुआ और मारा गया।

अलीवर्दीखाँ: अलीवर्दीखाँ ने बंगाल, बिहार तथा उड़ीसा के तीनों सूबों पर अधिकार कर लिया। मुहम्मदशाह ने भी उसे सूबेदार स्वीकार कर लिया। अलीवर्दीखाँ ने 1740 से 1756 ई. तक शासन किया। उसे मराठों के आक्रमणों का सामना करना पड़ा। नागपुर का रघुजी भोंसले, जो पेशवा का प्रतिद्वन्द्वी था, ने बंगाल, बिहार और उड़ीसा पर धावे मारने आरम्भ कर दिये। रघुजी के प्रतिनिधि भास्कर पन्त ने अलीवर्दीखाँ की सेना को कई बार परास्त किया। अलीवर्दीखाँ ने षड्यन्त्र रचकर भास्कर पन्त सहित कई मराठा सरदारों को मरवा दिया। इस पर क्रोधित होकर रघुजी भौंसले ने तीनों सूबों को बुरी तरह से रौंदा। अंत में अलीवर्दीखाँ को रघुजी से समझौता करना पड़ा तथा उड़ीसा का सूबा मराठों को सौंपना पड़ा। साथ ही बंगाल तथा बिहार की चौथ के बदले में रघुजी को 12 लाख रुपये वार्षिक देने का वचन देना पड़ा। अलीवर्दीखाँ को बंगाल का नवाब बनाने में हिन्दू व्यापारियों ने प्रमुख भूमिका निभाई थी। अतः अलीवर्दीखाँ ने भी अपने शासन में रायदुर्लभ, जगत सेठ, मेहताबराय, स्वरूपचन्द्र, राजा रामनारायण, राजा मानिकचन्द्र आदि हिन्दुओं को उच्च पद दिये। हिन्दू व्यापारियों के प्रभाव का मुख्य कारण बंगाल के व्यापार पर उनका एकाधिकार होना था।

सिराजुद्दौला: अलीवर्दीखाँ ने अपने जीवनकाल में ही अपनी छोटी पुत्री के लड़के सिराजुद्दौला को अपना उत्तराधिकारी घोषित कर दिया था। अतः 1756 ई. में अलीवर्दीखाँ की मृत्यु के बाद सिराजुद्दौला बंगाल का नवाब बना। उसने ईस्ट इण्डिया कम्पनी को विशेषाधिकारों का दुरुपयोग करने से रोका। इस कारण सिराजुद्दौला और अँग्रेजों के बीच प्लासी का युद्ध हुआ।

अवध

सआदतखाँ: अवध राज्य की स्थापना मीर मोहम्मद अमीन सआदत  बुरहान-उल-मुल्क ने की जिसे सआदतखाँ भी कहते हैं। वह मुगल दरबार में ईरानी अमीरों का नेता था। वह निजाम-उल-मुल्क का प्रतिद्वन्द्वी था। मीर मोहम्मद ने सैयद बन्धुओं के पतन में योगदान दिया था। इसके बदले में उसे सआदतखाँ की उपाधि तथा आगरा की सूबेदारी मिली। 1722 ई. में उसे अवध की सूबेदारी मिली। इसी समय से अवध राज्य का स्वतंत्र इतिहास प्रारंभ होता है। सआदतखाँ ने दिल्ली की राजनीति में सक्रिय भाग लिया। 1732 ई. में उसने उत्तरी भारत में मराठों के प्रसार को रोकने के सम्बन्ध में बादशाह मुहम्मदशाह के समक्ष कुछ प्रस्ताव रखे परन्तु अन्य अमीरों के विरोध के कारण उसे सफलता नहीं मिली। बादशाह ने उसे पेशवा बाजीराव के विरुद्ध कार्यवाही करने के निर्देश दिये। सआदतखाँ ने मार्च 1737 में मराठों की एक छोटी सी सेना को परास्त किया तथा बादशाह मुहम्मदशाह रंगीला को झूठी सूचना भिजवा दी कि उसने पेशवा बाजीराव को चम्बल के उस पार खदेड़ दिया है। जब बाजीराव को इस बात की जानकारी हुई तो उसने क्रोधित होकर दिल्ली पर धावा बोल दिया तथा सआदतखाँ की पोल खोल दी। इस घटना से मुगल दरबार में सआदतखाँ की प्रतिष्ठा समाप्त हो गई। इसका बदला सआदतखाँ ने नादिरशाह को दिल्ली पर आक्रमण हेतु उकसाकर तथा उसके हाथों मुहम्मदशाह का अपमान करवा कर लिया। 1739 ई. में सआदतखाँ की मृत्यु हो गई।

सफदरजंग: सआदत खाँ के बाद उसका भतीजा एवं दामाद सफदरजंग अवध का सूबेदार बना। 1748 ई. में मुगल बादशाह अहमदशाह ने उसे सल्तनत का वजीर नियुक्त किया। कुछ समय बाद उसे इलाहबाद का सूबा भी दे दिया। सफदरगंज ने अवध की सीमा पर स्थित रूहेलखण्ड में बसे हुए रूहेलों और फर्रूखाबाद के पठानों को दबाने का प्रयास किया। ये लोग अवध के क्षेत्रों में लूटमार करते रहते थे। सफदरगंज ने इस कार्य में जयप्पा सिन्धिया, मल्हारराव होलकर तथा जाट राजा सूरजमल का सहयोग लिया। 22 अप्रैल 1752 को सफदरगंज ने अहमदशाह अब्दाली के विरुद्ध मराठों से समझौता किया परन्तु बादशाह ने उस समझौते को रद्द करके पंजाब, अब्दाली को सौंप दिया। इस पर बादशाह और वजीर में अघोषित युद्ध छिड़ गया जिसमें वजीर परास्त हो गया तथा अपना पद त्यागकर अपने सूबे अवध को चला गया। अक्टूबर 1754 में उसकी मृत्यु हो गई।

शुजाउद्दौला: सफदरजंग की मृत्यु के बाद उसका पुत्र शुजाउद्दौला अवध का नवाब बना। उसके समय में अवध की राजनीति में गम्भीर परिवर्तन हुए। उसने मुगल शाहजादे अलीगौहार को अवध में शरण दी तथा पानीपत के तीसरे युद्ध में मराठों के विरुद्ध अहमदशाह अब्दाली का साथ दिया। अलीगौहर ने बादशाह बनने के बाद 1762 ई. में शुजाउद्दौला को वजीर के पद पर नियुक्त किया। शुजाउद्दौला ने बंगाल के नवाब मीर कासिम को अपने राज्य में शरण दी और अंग्रेजों के विरुद्ध बक्सर तथा कड़ा के युद्ध लड़े। इन युद्धों में शुजाउद्दौला की पराजय हुई। तब से अवध अँग्रेजों के प्रभाव में चला गया।

बड़ौदा

गुजरात मुगल सल्तनत के समृद्ध सूबों में से था किन्तु केन्द्रीय शक्ति के ह्रास के कारण गुजरात पर नियंत्रण बनाये रखना कठिन हो गया। जब मराठों को गुजरात से चौथ वसूली का अधिकार दिया गया तो मराठों का प्रभाव और अधिक बढ़ गया। गुजरात के तत्कालीन सूबेदार महाराजा अभयसिंह ने मराठों के बढ़ते हुए प्रभाव को रोकने का प्रयास किया किंतु महाराजा को 1733 ई. के युद्ध में बुरी तरह परास्त होना पड़ा और वह गुजरात का शासन अपने अधिकारियों को सौंपकर जोधपुर चला गया। 1735 ई. तक मराठे गुजरात के वास्तविक शासक बन गये। आगे चलकर गुजरात में बड़ौदा राज्य स्थापित हुआ जिस पर गायकवाड़ परिवार ने शासन किया।

मालवा

मराठों के बढ़ते हुए प्रभाव के कारण दिल्ली दरबार का कोई भी अमीर मालवा में अपना स्वतंत्र राज्य स्थापित नहीं कर पाया। 1724 ई. के बाद पेशवा के तीन सेनानायकों- होलकर, सिन्धिया और पंवार ने क्रमशः इन्दौर, ग्वालियर और धार में मराठा शक्ति का विस्तार किया। आगे चलकर तीनों, स्वतंत्र मराठा राज्यों में बदल गये।

पंजाब

पंजाब के सूबेदार जकारियाखाँ ने लम्बे समय तक पंजाब में शान्ति बनाये रखी परन्तु 1737 से 1739 ई. तक नादिरशाह और 1752 से 1761 ई. तक अहमदशाह अब्दाली के आक्रमणों से पंजाब की शासन व्यवस्था अस्त-व्यस्त हो गई और अराजकता की स्थिति उत्पन्न हो गई। दिल्ली दरबार की दलबन्दी और मुहम्मदशाह रंगीला की निर्बलता के कारण पंजाब में कोई ठोस कार्यवाही नहीं की जा सकी।

राजपूताना

बाबर के समय से ही मेवाड़ राज्य, मुगलों से पर्याप्त दूरी बनाये हुए था। औरंगजेब की धूर्त्तता और मक्कारी पूर्ण गतिविधियों के चलते जोधपुर, बीकानेर, आम्बेर तथा बूंदी आदि राजपूत राज्य, मुगलों से लगातार दूर होते जा रहे थे। फिर भी वे मुगल राजनीति में भाग लेते रहे। औरंगजेब की मृत्यु के बाद आम्बेर नरेश सवाई जयसिंह तथा मारवाड़ नरेश अभयसिंह, मुगलों की सूबेदारी स्वीकार करते रहे तथा मराठों के विरुद्ध प्रभावी कार्यवाही करते रहे परन्तु मराठे निरंतर आगे बढ़ते रहे जिसके कारण केन्द्रीय राजनीति में राजपूत राज्यों की भूमिका गौण हो गई तथा राजपूताना राज्यों के शासक अपने-अपने राज्यों में स्वतंत्र शासक की भांति शासन करने लगे।

मैसूर

1565 ई. में तालीकोट के युद्ध के बाद विजयनगर राज्य का विघटन हो गया तथा मैसूर का हिन्दू राज्य अस्तित्त्व में आया था। 1704 ई. में मैसूर को औरंगजेब की अधीनता स्वीकार करनी पड़ी। 1750 ई. के आसपास मैसूर पर चिकाकृष्णराज का शासन था। वह नाममात्र का शासक था। शासन की समस्त शक्तियाँ देवराज और नन्दराज  नामक दो भाइयों के हाथों में थी। बाद में नन्दराज, राज्य का सर्वेसर्वा बन गया। उस समय हैदरअली, नन्दराज की सेना में नायक के पद पर काम करता था। हैदरअली अनपढ़ होते हुए भी चतुर व्यक्ति था। उसकी प्रतिभा से प्रभावित होकर नन्दराज ने उसे डिण्डुगल दुर्ग का फौजदार नियुक्त किया। 1761 ई. में हैदरअली ने मैसूर के दीवान खाण्डेराव तथा राजमाता से मिलकर नन्दराज को परास्त कर दिया। नन्दराज के पराभव के बाद हैदरअली ने शासन, राजमाता को सौंपने के स्थान पर स्वयं अपने हाथ में ले लिया। हैदरअली ने दीवान खाण्डेराव को बंदीगृह में डाल दिया तथा स्वयं राजा के नाम पर शासन करने लगा। जब हैदराबाद के निजाम नासिरजंग की हत्या हुई, तब हैदरअली अपने सैनिकों सहित हैदराबाद में ही था। नासिरजंग की हत्या के बाद विद्रोही, उसका कोष लूटकर भागने लगे।

हैदरअली ने उन्हें परास्त करके लूट का सारा माल हथिया लिया। इस प्रकार, वह अपार धन-सम्पदा का स्वामी बन गया। 1776 ई. में मैसूर के राजा की मृत्यु के बाद हैदरअली ने स्वयं को मैसूर का सुल्तान घोषित कर दिया। उसने दक्षिण में फैली अव्यवस्था का लाभ उठाकर अपने राज्य का बहुत विस्तार किया। अँग्रेजों को हैदरअली का उत्कर्ष खटकने लगा। उन्होंने मैसूर राज्य को समाप्त करने के लिये 1766 से 1799 ई. की अवधि में हैदरअली तथा उसके पुत्र टीपू सुल्तान से चार युद्ध लड़े। इन्हें मैसूर का प्रथम युद्ध (1766-1769 ई.), मैसूर का द्वितीय युद्ध (1780-1784 ई.), मैसूर का तृतीय युद्ध (1790-1792 ई.) एवं चतुर्थ युद्ध (1799 ई.) कहा जाता है। मैसूर के द्वितीय युद्ध में हैदरअली तथा मैसूर के चतुर्थ एवं अंतिम युद्ध में हैदरअली का पुत्र टीपू सुल्तान मारा गया और मैसूर राज्य पर ईस्ट इण्डिया कम्पनी का अधिकार हो गया।

Related Articles

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Stay Connected

21,585FansLike
2,651FollowersFollow
0SubscribersSubscribe
- Advertisement -

Latest Articles

// disable viewing page source