Saturday, June 19, 2021

131. बादशाह का प्यारा दोस्त चिनकुलीच खाँ सतलज के किनारे मारा गया!

नादिरशाह के ईरान लौट जाने के बाद धीरे-धीरे लाल किले में जिंदगी सामान्य होने लगी। एक-दो वर्ष में ही वे भूलने लगे कि नादिरशाह नाम का कोई आक्रांता लाल किले में आया था। इस कारण लाल किले के भीतर रह रहे लोगों के स्वभाव एवं आदतों में कोई अंतर नहीं आया। यद्यपि बादशाह अब भी भोग-विलास में डूबा हुआ था किंतु उसके स्वभाव में कुछ परिवर्तन आए थे।

मुहम्मदशाह रंगीला किशोर अवस्था से ही शराब पीने का आदी था किंतु नादिरशाह के लौट जाने के बाद वह बेतहाशा शराब पीने लगा। कुछ स्रोतों के अनुसार वह अफ़ीम भी खाने लगा जिससे कारण उसका शरीर उसकी सल्तनत की ही तरह अंदर से खोखला हो गया। अब वह पहले की तरह औरतों के कपड़े नहीं पहनता था, केवल सफेद रंग के मर्दाना कपड़ों में दिखाई देता था।

मुगल दरबार अब भी गुटों में बंटा हुआ था। फिर भी विशाल भारत के किसानों द्वारा उगाई जा रही फसलों से मिलने वाले लगान से लाल किले का व्यय मजे से चलता रहा। बादशाहत बनी रही और सेनाओं को वेतन भी दिया जाता रहा। हालांकि अब बादशाह की अपनी सेना बहुत छोटी रह गई थी किंतु बंगाल, अवध और हैदराबाद के सूबेदारों के पास अपनी-अपनी विशाल सेनाएं थीं। इन सूबों के सूबेदार वास्तव में तो स्वतंत्र थे किंतु अब भी मुगल बादशाह के अधीन होने का दिखावा करते थे।

पूरे आलेख के लिए देखें यह वी-ब्लॉग-

Related Articles

1 COMMENT

  1. मुहम्मदशाह के शासनकाल में मुगल साम्राज्य की सीमाएं सिमटकर दिल्ली और उसके आस पास के क्षेत्रों तक ही रह गयीं थीं। करनाल के युद्ध के बाद जब 1739 ई. में नादिरशाह ने मुग़ल सम्राट को बंदी बनाकर जब दिल्ली पर आक्रमण किया तब साम्राज्य की कमजोरी जग जाहिर हो गई। सर जदुनाथ सरकार ने कहा है कि यद्यपि दिल्ली के राजतंत्र की नींव सड़ चुकी थी फिर भी मुहम्मदशाह ने अपनी बुद्धि के बल पर उसे कायम रखा। उसे मध्यकालीन युग के अंतिम शासकों में से कहा जा सकता है क्योंकि उसके बाद बादशाहत का केवल नाम शेष रह गया। वस्तुतः उसके उत्तराधिकारी केवल नाम के बादशाह रह गए और मुख्य शक्ति आने वाले समय में नवाब बहादुर जावेदखान , इमाद उल मुल्क, नजीबुद्दौला और मिर्जा नजफ़ कुली खान जैसे वज़ीरों और अधिकारियों के हाथ में रही।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Stay Connected

21,585FansLike
2,651FollowersFollow
0SubscribersSubscribe
- Advertisement -

Latest Articles