Monday, September 20, 2021

आधुनिक भारत का इतिहास, लेखक डॉ. मोहनलाल गुप्ता – अनुक्रमणिका

अध्याय

अध्याय – 1 : भारत में यूरोपीय जातियों का आगमन
अध्याय – 2 : अंग्रेजों के आगमन के समय भारत की राजनीतिक स्थिति – 1
अध्याय – 3 : अँग्रेजों के आगमन के समय भारत की राजनीतिक स्थिति – 2

अध्याय – 4 : अँग्रेजों के आगमन के समय भारत की राजनीतिक स्थिति – 3

अध्याय – 5 : भारत में अँग्रेज और फ्रांसीसी कम्पनियों की प्रतिस्पर्धा

अध्याय – 6 : अँग्रेजों के आगमन के समय भारत की आर्थिक स्थिति

अध्याय – 7 : बंगाल में ब्रिटिश प्रभुसत्ता का विस्तार

अध्याय – 8 : प्लासी का युद्ध (1757 ई.)

अध्याय – 9 : बंगाल में अंग्रेज शक्ति का उदय एवं बक्सर-युद्ध

अध्याय – 10 : ईस्ट इण्डिया कम्पनी द्वारा बंगाल में द्वैध शासन की स्थापना

अध्याय – 11 : प्रथम आंग्ल-मराठा युद्ध

अध्याय -12 : द्वितीय एवं तृतीय आंग्ल-मराठा युद्ध

अध्याय – 13 : भारत में ब्रिटिश शासन की स्थापना

14 -अध्याय : मार्क्विस वेलेजली द्वारा सहायक संधि प्रथा का आविष्कार

अध्याय – 15 : लॉर्ड हेस्टिंग्ज की हस्तक्षेप नीति

अध्याय – 16 : लॉर्ड डलहौजी की डॉक्टराइन ऑफ लैप्स

अध्याय – 17 : ईस्ट इण्डिया कम्पनी का जमींदारी बंदोबस्त

अध्याय – 18 : ईस्ट इण्डिया कम्पनी का रैय्यतवाड़ी बन्दोबस्त

अध्याय – 19 : ईस्ट इण्डिया कम्पनी का महलवाड़ी बंदोबस्त

अध्याय – 20 : ब्रिटिश शासन के अंतर्गत भारत में कृषि का वाणिज्यीकरण और उसका प्रभाव

 अध्याय – 21 : ब्रिटिश काल में भारत से धन का निष्कासन

अध्याय – 23 : ब्रिटिश शासन के अंतर्गत भारत में न्यायिक सुधार

अध्याय – 24 : भारत में ईसाई शिक्षा के प्रारम्भिक प्रयास

अध्याय – 25 : भारत में पाश्चात्य शिक्षा के विकास का प्रथम चरण (1813-1853 ई.)

अध्याय – 26 : भारत में पाश्चात्य शिक्षा के विकास का दूसरा चरण (1854-1882 ई.)

अध्याय – 27 : भारत में पाश्चात्य शिक्षा के विकास का तीसरा चरण (1882-1901 ई.)

अध्याय – 28 : भारत में पाश्चात्य शिक्षा के विकास का चतुर्थ चरण (1901-19 ई.)

अध्याय – 29 : भारत में समाज सुधार एवं धर्म सुधार आन्दोलन-1

अध्याय – 30 : भारत में समाज सुधार एवं धर्म सुधार आन्दोलन-2

अध्याय – 31 : भारत में समाज सुधार एवं धर्म सुधार आन्दोलन-3

अध्याय – 32 : भारत में समाज सुधार एवं धर्म सुधार आन्दोलन-4

अध्याय – 33 : भारत में समाज सुधार एवं धर्म सुधार आन्दोलन-5

अध्याय – 34 : भारत में समाज सुधार एवं धर्म सुधार आन्दोलन-6

अध्याय – 35 : भारत में समाज सुधार एवं धर्म सुधार आन्दोलन-7

अध्याय – 36 : भारत में समाज सुधार एवं धर्म सुधार आन्दोलन-8

अध्याय – 37 : भारत में समाज सुधार एवं धर्म सुधार आन्दोलन-9

अध्याय – 38 : भारत में अठारहवीं सदी में प्रेस एवं पत्रकारिता का विकास

अध्याय – 39 : भारत में उन्नीसवीं सदी के पूर्वार्द्ध की पत्रकारिता

अध्याय – 40 : भारत में अट्ठारह सौ सत्तावन के बाद की पत्रकारिता

अध्याय – 41 : अँग्रेजी शासन की पहली शताब्दी में हुए विद्रोह

अध्याय – 42 : उन्नीसवीं सदी में किसान आन्दोलन प्रारम्भ होने के कारण

अध्याय – 43 : भारत में उन्नीसवीं सदी के प्रमुख किसान आन्दोलन

अध्याय – 44 : ब्रिटिश काल में आदिवासियों के विद्रोह

अध्याय – 45 : अठारह सौ सत्तावन क्रांति के कारण

अध्याय – 46 : अठारह सौ सत्तावन की क्रांति की घटनाएँ एवं प्रसार

अध्याय – 47 : अंग्रेजों द्वारा अठारह सौ सत्तावन क्रांति का दमन

अध्याय – 48 : अठारह सौ सत्तावन क्रांति की असफलता के कारण

अध्याय – 49 : भारत में राजनीतिक संगठनों का उदय – 1

अध्याय – 50 : भारत में राजनीतिक संगठनों का उदय – 2

अध्याय – 51 : भारत में राजनीतिक संगठनों का उदय – 3

अध्याय – 52 : भारत में राजनीतिक जन-जागरण के कारण

अध्याय – 53 : भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस की स्थापना

अध्याय – 54 : उदारवादी नेतृत्व (नरमपंथी कांग्रेस) -1

अध्याय – 55 : उदारवादी नेतृत्व (नरमपंथी कांग्रेस) -2

अध्याय – 56 : उग्र राष्ट्रवादी आंदोलन (गरमपंथी कांग्रेस) – 1   

अध्याय – 57 : उग्र राष्ट्रवादी आंदोलन (गरमपंथी कांग्रेस) – 2

अध्याय – 58 : उग्र राष्ट्रवादी आंदोलन (गरमपंथी कांग्रेस) – 3

अध्याय – 59 : भारत में क्रांतिकारी आन्दोलन – 1 

 अध्याय – 60 : भारत में क्रांतिकारी आन्दोलन – 2

अध्याय – 61 : भारत में क्रांतिकारी आन्दोलन – 3

अध्याय – 62 : भारत में क्रांतिकारी आन्दोलन – 4

अध्याय – 63 : भारत में क्रांतिकारी आन्दोलन – 5

अध्याय – 64 : भारत में क्रांतिकारी आन्दोलन – 6

अध्याय – 65 : क्रांतिकारी आन्दोलन – 7

अध्याय – 66 : भारतीय राजनीति में गांधीजी का योगदान – 1 

अध्याय – 67 : भारतीय राजनीति में गांधीजी का योगदान – 2 

अध्याय – 68 : भारतीय राजनीति में गांधीजी का योगदान – 3

अध्याय – 69 : भारतीय राजनीति में गांधीजी का योगदान – 4

अध्याय – 70 : भारतीय राजनीति में गांधीजी का योगदान – 5 

अध्याय – 71 : भारतीय राजनीति में गांधीजी का योगदान – 6

अध्याय – 73 : उग्र वामपंथी आन्दोलन – 1

अध्याय – 74 : उग्र वामपंथी आन्दोलन – 2

अध्याय – 75 : उग्र वामपंथी आन्दोलन – 3

अध्याय – 76 : उग्र वामपंथी आन्दोलन – 4

अध्याय – 77 : भारत में मजदूर आन्दोलन – 1 

अध्याय – 78 : भारत में मजदूर आन्दोलन – 2

अध्याय – 79 : भारत में किसान आन्दोलन

अध्याय – 80 : भारत में दलित आन्दोलनों का उदय 

अध्याय – 81 : भारत सरकार अधिनियम 1919

अध्याय – 82 : भारत सरकार अधिनियम 1935

अध्याय – 83 : भारत में साम्प्रदायिक राजनीति का विकास – 1

अध्याय – 84 : भारत में साम्प्रदायिक राजनीति का विकास – 2

अध्याय – 85 : भारतीय राजनीति में नेताजी सुभाषचन्द्र बोस का उदय तथा कांग्रेस में सक्रियता

अध्याय – 86 : नेताजी सुभाषचन्द्र बोस तथा भारतीय राष्ट्रीय सेना

अध्याय – 87 : नेताजी सुभाषचन्द्र बोस द्वारा आजाद हिन्द फौज का पुनर्गठन

अध्याय – 88 : नेताजी सुभाषचन्द्र बोस की सफलताओं का मूल्यांकन

अध्याय – 89 : स्वतंत्रता के द्वार पर भारत

अध्याय – 90 : भारत का विभाजन  

अध्याय – 91 : पराधीनता का विलोपन एवं स्वाधीनता का उदय

अध्याय – 92 : भारत विभाजन के बाद साम्प्रदायिक उन्माद

अध्याय – 93 : स्वतंत्र भारत में देशी रियासतों के विलय का प्रश्न

अध्याय – 94 : देशी राज्यों के भारत में विलय पर जिन्ना का षड़यंत्र

अध्याय – 95 : भारत में विलय के प्रश्न पर जूनागढ़ की समस्या

अध्याय – 96 : भारत में विलय के प्रश्न पर हैदराबाद की समस्या

अध्याय – 97 : भारत में विलय के प्रश्न पर काश्मीर की समस्या

 अध्याय – 98 : भारत की आजादी के बाद देशी रियासतों में प्रजातन्त्रीय व्यवस्था

परिशिष्ट -1 : भारत में ब्रिटिश शासन के सर्वोच्च अधिकारी

Related Articles

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Stay Connected

21,585FansLike
2,651FollowersFollow
0SubscribersSubscribe
- Advertisement -

Latest Articles